जब भी देख़ता हूँ

जब भी देख़ता हूँ ….. तेरे इश्क़ की पाकीज़गी ……..

दिल करता …… तेरी रूह को काला टीका लगा दूँ …!!