बिन धागे की सुई

बिन धागे की सुई सी हो गयी है, ये जिंदगी,
सिलती कुछ नही बस चुभती जा रही है..